Headlinesझारखंड

सोरेन सरकार के खिलाफ वकीलों ने खोला मोर्चा, 25 हजार ने नहीं किया काम; कहा- फैसले पर दोबारा हो विचार

झारखंड में कोर्ट फीस बढ़ोतरी के खिलाफ 25 हजार वकीलों ने सोमवार को खुद को न्यायिक कार्य से दूर रखा। वकील कोर्ट पहुंचे लेकिन अदालक कक्ष में बहस के लिए नहीं गए। बार संघ ने मार्च भी निकाला।

कोर्ट फीस में बढ़ोतरी के खिलाफ सोमवार को राज्य के करीब 25 हजार वकीलों ने न्यायिक कार्य नहीं किया। वकील कोर्ट तो पहुंचे, लेकिन अपने टेबल पर ही बैठे रहे। एक भी अधिवक्ता बहस के लिए अदालत कक्ष नहीं गया। बार काउंसिल के आह्वान पर पूरे राज्य के वकील एक दिन के लिए आंदोलन पर हैं और खुद को न्यायिक कार्य से अलग रखा है। वकील काला बिल्ला लगाकर कोर्ट फीस बढ़ोतरी का विरोध कर रहे हैं।

राज्य के विभिन्न जिला बार संघ की ओर से मार्च भी निकाला जा रहा है। सरकार ने कोर्ट फीस में दो से चार गुना तक बढ़ोतरी की है। इसके विरोध में यह आंदोलन किया जा रहा है। बार काउंसिल के अध्यक्ष राजेंद्र कृष्णा के अनुसार राज्य सरकार की ओर से फीस बढ़ोतरी सही नहीं है। इससे राज्य की गरीब जनता न्याय से दूर हो जाएगी। कोर्ट फीस बढ़ाने से पहले सरकार को एक ड्राफ्ट बनाना चाहिए था।

राजेंद्र कृष्णा ने कहा कि इसपर सभी लोगों से आपत्ति मांगनी चाहिए। लेकिन सरकार ने इन प्रक्रियाओं को पूरा नहीं किया है। उन्होने कहा कि अगर राज्य सरकार कोर्ट फीस बढ़ोतरी वापस नहीं लेती है, तो बार काउंसिल इसको लेकर कठोर निर्णय लेने को बाध्य होगी। हाईकोर्ट के वकील का कहना है कि कोर्ट फीस बढ़ने का असर वकीलों पर कम और मुवक्किलों पर ज्यादा पड़ेगा। उन्होंने सरकार से अपने फैसले पर दोबारा विचार करने को कहा है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: