Headlinesकोविड 19ट्रेंडिंगबिजनेस

Corona Vaccine : भारत में ये कंपनियां सीधे वैक्सीन निर्माताओं से ले सकेंगी टीके

Corona Vaccine : भारत में ये कंपनियां सीधे वैक्सीन निर्माताओं से ले सकेंगी टीके

Corona Vaccine : केंद्र सरकार एक ऐसी योजना बनाएगी जिसमें विशेष रूप से बड़ी कंपनियां अपने कर्मचारियों के लिए सीधे कोविड-19 वैक्सीन के डेवलपर्स से टीके का सौदा कर सकती हैं। मामले के बारे में जानकारी रखने वाले लोगों ने इस बात की पुष्टि की है। अधिकारियों ने नाम न बताने की शर्त पर कहा है कि भारत की ज्यादातर वैक्सीन योजना राज्य द्वारा पोषित होगी और इसकी लागत लगभग 50 हजार करोड़ रुपये होगी। उन्होंने इस बात की भी पुष्टि की है कि ज्यादातर विश्लेषक वैक्सीन के बारे में कह रहे हैं कि 2021 में भारत के भीतर हर किसी को वैक्सीन नहीं मिल पाएंगी।

अधिकारियों ने बताया कि कंपनियों को वैक्सीन की खुराक को सुरक्षित रखने की अनुमति देने की योजना पर विचार किया जा रहा है, क्योंकि सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि प्रमुख आर्थिक गतिविधियों में कोई व्यवधान न हो। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री के कार्यलाय से इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलने का इंतजार है। अगर प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है तो इंडियन इंक के लिए वैक्सीन का एक विंडो खुल जाएगा। बहुत ही सीमित स्पलाई के साथ। स्वास्थ्य कर्मचारियों, सह-रुग्णता वाले रोगियों और वृद्ध आबादी को पहले खुराक दी जाएगी।

किन कंपनियों को सीधे मिलेगी वैक्सीन
भारत के उद्योग की बड़ी कंपनियों के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि पहली तिमाही के घरेलू उत्पादन में 23.9% की गिरावट के बाद देश अपनी अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने के लिए जोर दे रहा है। मोदी सरकार के कोविड प्रबंधन और अर्थव्यवस्था को लेकर भी सवाल उठाए गए। अब जब सभई फैक्ट्रियां और कंपनियां खुल गई हैं तो कई उद्दोग कैपिसिटी से भी कम काम कर रहे हैं क्योंकि मांग ही नहीं है। अधिकारियों का कहना है कि अभी इस बात पर फैसला लिया जाना है कि कौन-सी कंपनियां सीधे तौर पर वैक्सीन निर्माताओं से वैक्सीन खरीद सकेंगी। लेकिन अधिकारियों ने संकेत दिया कि पेट्रोलियम, स्टील, फार्मा, सीमेंट और कोयला जैसे प्रमुख क्षेत्रों में अनुमति दी जा सकती है। इससे केंद्र पर वित्तीय दबाव भी कम होगा।

वैक्सीन वितरण के लिए देश में तैयारियां

सरकार अगले साल की शुरुआत में टीकों के संभावित लॉन्च के लिए पूरे भारत में लॉजिस्टिक्स और इन्फ्रास्ट्रक्चर की जगह बना रही है। सरकार कोविड टीकों के वितरण और प्रशासन के लिए एक योजना तैयार करने के लिए राज्यों, संभावित टीका निर्माताओं और अन्य हितधारकों के साथ संपर्क में है। ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी AstraZeneca और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के उम्मीदवार, भारत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा सह-उत्पादित वैक्सीन का ट्रायल तीसरे चरण में है। भारतीय दवा निर्माता कंपनी Zydus Cadila ने 6 अगस्त को कोविड टीकों के लिए चरण 2 परीक्षणों का शुभारंभ किया है। एक अन्य घरेलू फार्मा कंपनी Bharat Biotech ने सितंबर से अपने दूसरे चरण के परीक्षणों की शुरुआत की।

source by : https://www.livehindustan.com/

यह भी पढ़ें :  राहुल और प्रियंका गांधी का काफिला DND पर पहुंचा

 

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: