Headlinesराष्ट्रीय ख़बरें

पीएम नरेंद्र मोदी ने हॉटस्पॉट पर क्या कहा? एक सप्ताह तक क्यों बढ़ाई जाएगी लॉकडाउन में सख्ती

पीएम नरेंद्र मोदी ने देश में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ाने की घोषणा की है। मोदी ने कहा है कि देश में कोरोना के नए हॉटस्पॉट बनने से रोकना है। उन्होंने कहा कि जिन स्थानों के हॉटस्पॉट में बदलने की संभावना है वहां और सख्ती बढ़ाई जाएगी। पीएम ने हॉटस्पॉट पर पहले से अधिक सतर्कता बरतने की अपील की है। उन्होंने यह भी कहा कि 20 अप्रैल से उन्हीं स्थानों को कुछ छूट मिलेगी जो अपने यहां हॉटस्पॉट नहीं बनने देंगे।

‘पहले से ज्यादा बरतनी होगी सतर्कता’
पीएम मोदी ने कहा कि अब कोरोना को हमें किसी भी कीमत पर नए क्षेत्रों में फैलने नहीं देना है। स्थानीय स्तर पर एक भी मरीज बढ़ता है तो हमारे लिए चिंता का विषय़ होना चाहिए। कहीं कोरोना से एक भी मरीज की मौत होती है तो हमारी चिंता और बढ़नी चाहिए। इसलिए हमें हॉटस्पॉट को इंगित करके पहले से भी ज्यादा बहुत ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी।

पीएम ने कहा कि जिन स्थानों को हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका है वहां कड़ी नजर रखनी होगी, कठोर कदम उठाने होंगे। नए हॉटस्पॉट का बनना हमारी तपस्या को चुनौती देगा, नए संकट पैदा करेगा। अगले एक सप्ताह में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कठोरता और ज्यादा बढ़ाई जाएगी।

जो अग्निपरीक्षा में होंगे पास उन्हें मिलेगी छूट
पीएम ने कहा कि 20 अप्रैल तक हर कस्बे, हर थाने, हर जिले को बड़ी बारीकी से परखा जाएगा। वहां लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है, कितना खुद को कोरोना से बचाया है इसका लगातार मूल्याकंन किया जाएगा। जो क्षेत्र इस अग्निपरीक्षा में सफल होंगे, जो अपने यहां हॉटस्पॉट नहीं बनने देंगे और जिनके हॉटस्पॉट में बदलने की आशंका कम होगी वहां 20 अप्रैल से जरूरी गतिविधियों की छूट मिलेगी।

फेल हुए तो छूट वापस
पीएम ने यह भी कहा कि यह अनुमति सशर्त होगी, बाहर निकलने के लिए नियम बहुत सख्त होंगे। लॉकडाउन के नियम टूटते हैं और कोरोना का पैर हमारे इलाके में पड़ता है तो सारी अनुमित वापस ले ली जाएगी। ना खुद लापरवाही करनी है और ना किसी को करने देना है। कल इस बारे में सरकार की तरफ से एक वृस्तृत गाइडलाइन जारी की जाएगी। 20 अप्रैल से चुनिंदा क्षेत्रों में सीमित छूट का प्रावधान गरीबों की आजीविका का ध्यान में रख कर किया जाएगा। जो रोज कमाते हैं और अपनी जरूरत पूरी करते हैं।

source by : https://www.livehindustan.com/

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button