Headlinesझारखंड

Garhwa News : आखिर पिछली सरकार की क्यों कि जा रही है सराहना ? पढ़ें, पूरी रिपोर्ट

Garhwa News : आखिर पिछली सरकार की क्यों कि जा रही है सराहना ? पढ़ें, पूरी रिपोर्ट

 Garhwa News  : पिछली सरकार की सराहना की जा रही है। आइए, हम आपको इस खबर के जरिए बताते हैं की कहाँ के लोग पिछली सरकार की सराहना कर रहे हैं और क्यों ? हम बात कर रहे हैं जिले के कांडी प्रखण्ड की, जहां के लोग पिछली सरकार की सराहना खूब कर रहे हैं, जबकि वर्तमान सरकार से काफी निराशा महसूस कर रहे हैं।

आखिर निराशा महसूस करने की बात भी तो है। जब तन थक जाता है, उम्र 60 की हो जाती है तो उस परिस्थिति में लोगों को केवल एक ही आशा होती है- वृद्धा पेंशन। उक्त प्रखण्ड के कई ऐसे वृद्धा पेंशन के लाभुक हैं, जिनका पेंशन गत तीन माह से बकाया है। वहीं वृद्धा पेंशन के कई ऐसे लाभुक हैं, जो लगातार आवेदन देते-देते परेशान हो गए, किन्तु उन्हें कोई लाभ नहीं हो सका।

अशमोहम्मद अंसारी, इन्द्रदेव राम, राम वृक्ष राम, मुद्रिका राम, गुलवासो देवी, सुग्रीव मिस्त्री, पार्वती कुंवर सहित कई लोगों ने जानकारी देते हुए बताया कि पिछले तीन माह से वृद्धा पेंशन नहीं मिल पाया है। सभी लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

जबकि सुरेश प्रसाद चंद्रवंशी, मानमती कुंवर सहित अन्य कई लोगों ने बताया कि पंचायत से लेकर प्रखंड कार्यालय तक आवेदन देते-देते थक गए, किन्तु अब तक भी वृद्धा पेंशन स्वीकृत नहीं हो सका। उक्त सभी लोगों ने कहा कि कई अयोग्य लोग भी वृद्धा पेंशन का लाभ ले रहे हैं। साथ ही लोगों ने कहा कि पिछली सरकार में तो माह के अन्त तक खाता में पैसा आ भी जाता था,

जिससे आसानी से दो वक्त की रोटी जुटा पाते थे।

इस सरकार में हमलोग भूखे पेट रहकर ही गुजारा कर पा रहे हैं। उक्त सभी लोगों ने भाजपा नेता- रामलाला दुबे व कांडी पंचायत मुखिया- विनोद प्रसाद से गुहार लगाते हुए वृद्धा पेंशन दिलवाने की मांग की है। वहीं भाजपा नेता- रामलाला दुबे ने उक्त सभी लोगों की समस्याओं को लेकर शीघ्र ही गढ़वा उपायुक्त को अवगत कराने की बात कही।

श्री दुबे ने कहा कि कोरोना महामारी को लेकर हुए लॉक डाउन में निर्धन व्यक्ति ऐसे भी पूरी तरह से टूट चुके हैं। पेंशन की तीव्र इच्छा रखने वाले योग्य लाभूक केवल अपनी व्यथा ही बता पा रहे हैं। सभी बेबस व लाचार हैं। सभी

लोग भुखमरी के कगार पर हैं, किन्तु किसी की कोई नहीं सुन रहा है।

 

संवाददाता- विवेक चौबे

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: